Home / Stories / Hindi Stories / Munshi Premchand Stories / Rangbhoomi by Munshi Premchand Stories in Hindi Free Download

Rangbhoomi by Munshi Premchand Stories in Hindi Free Download

With Munshi Premchand Stories today we are going to Share Hindi Noval by Premchand called Rangbhoomi in Hindi, This is the best Hindi novel by Premchand with great moral, you can download or read online from Mushiiiweb, Read the short summary below now:

Rangbhoomi by Munshi Premchand Stories in Hindi Free Download




Rangbhoomi by Premchand in Hindi

शहर अमीरों के रहने और क्रय-विक्रय का स्थान है। उसके बाहर की भूमि उनके मनोरंजन और विनोद की जगह है। उसके मध्‍य भाग में उनके लड़कों की पाठशालाएँ और उनके मुकद़मेबाजी के अखाड़े होते हैं, जहाँ न्याय के बहाने गरीबों का गला घोंटा जाता है। शहर के आस-पास गरीबों की बस्तियाँ होती हैं। बनारस में पाँड़ेपुर ऐसी ही बस्ती है। वहाँ न शहरी दीपकों की ज्योति पहुँचती है, न शहरी छिड़काव के छींटे, न शहरी जल-खेतों का प्रवाह। सड़क के किनारे छोटे-छोटे बनियों और हलवाइयों की दूकानें हैं, और उनके पीछे कई इक्केवाले, गाड़ीवान, ग्वाले और मजदूर रहते हैं। दो-चार घर बिगड़े सफेदपोशों के भी हैं, जिन्हें उनकी हीनावस्था ने शहर से निर्वासित कर दिया है। इन्हीं में एक गरीब और अंधा चमार रहता है, जिसे लोग सूरदास कहते हैं। भारतवर्ष में अंधे आदमियों के लिए न नाम की जरूरत होती है, न काम की। सूरदास उनका बना-बनाया नाम है, और भीख माँगना बना-बनाया काम है। उनके गुण और स्वभाव भी जगत्-प्रसिध्द हैं-गाने-बजाने में विशेष रुचि, हृदय में विशेष अनुराग, अध्‍यात्‍म और भक्ति में विशेष प्रेम, उनके स्वाभाविक लक्षण हैं। बाह्य दृष्टि बंद और अंतर्दृष्टि खुली हुई।

Rangbhoomi by Munshi Premchand Stories in Hindi Free Download







 

Summary
Review Date
Reviewed Item
Rangbhoomi by Munshi Premchand Stories in Hindi Free Download
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

Munshi Premchand story Namak ka Daroga

Munshi Premchand stories Namak ka Daroga in Hindi

Munshi Premchand one of the best Top Stories Writer in India, he ...